ईमानदारी, सुशासन की नई राजनीति के लिए वोट करने के लिए लोक गठबंधन पार्टी का आह्वान


लखनऊ / लोक गठबंधन पार्टी (एलजीपी) ने लोगों से लोकसभा चुनाव में देश में ईमानदारी,पारदर्शिता और सुशासन के लिए वोट करने का आह्वान किया और भ्रष्टाचार को जड़ से खत्म कर ने का आहवाहन किया जिसने पूरे भारतीय राजनीति को नष्ट कर दिया है। एलजीपी ने कहा कि भ्रष्टाचार मुक्त “नई राजनीति” के बिना देश को रसातल से बाहर नहीं निकाला जा सकता है ।


एलजीपी के प्रवक्ता, भारत के पूर्व सचिव विजय शंकर पांडेय की अगुवाई में, जो फैजाबाद-अयोध्या सीट से लोकसभा चुनाव लड़ेंगे, ने कहा कि पार्टी लंबे समय से उच्च स्थानों पर भ्रष्टाचार के खिलाफ अभियान चला रही है और एलजीपी आक्रामक तरीके से आगे बढ़ेगी। प्रवक्ता ने कहा कि श्री पांडे जो फैजाबाद में चुनाव प्रचार कर रहे हैं, ने ईमानदारी और सुशासन के आधार पर नई राजनीति पर जोर दिया है। प्रवक्ता ने कहा कि आगामी चुनाव देश की लोकतांत्रिक और संघीय प्रणाली के लिए महत्वपूर्ण होगा, जिसे विघटनकारी ताकतों से विरोध करने की आवश्यकता है। प्रवक्ता ने कहा कि भारतीय राजनीति की टेक्टोनिक प्लेटों के वर्तमान विचलन से पूरी तरह से असंतुष्ट महसूस कर रहे गरीब लोगों के मतदान में एक किनारे  स्थानांतरित होने की संभावना है। प्रवक्ता ने कहा कि एलजीपी ने लोगों के लिए विकास और कल्याण का समावेशी रोडमैप तैयार किया है। प्रवक्ता ने कहा कि एलजीपी का जोर लोगों के ईमानदार और संतुलित सामाजिक-आर्थिक विकास पर है, लेकिन यह भी जरूरी है कि सांप्रदायिक और जातिगत ताकतों को राजनीति से बाहर निकाला जाए। प्रवक्ता ने कहा कि इस जन-समर्थक एजेंडे के साथ श्री पांडे ने फैजाबाद में अपना गहन चुनाव अभियान शुरू किया है ।



प्रवक्ता ने कहा कि जहां अन्य देशों में तेजी से विकास हो रहा है, वहीं हमारा देश एक दूसरे के खिलाफ नफरत और आक्रोश से भरी समस्याओं के दलदल में फंस गया है। प्रवक्ता ने कहा कि ऐसे समय में जब देश बड़े पैमाने पर भ्रष्टाचार और कुशासन के साथ भारी सामाजिक-आर्थिक समस्याओं का सामना कर रहा है, जिसने अपने ऑक्टोपस जैसे हाथों से  पूरे सिस्टम पर पकड़ बनाये रखा है  तथा गरीब लोगों को सांप्रदायिक घृणा और जातिगत संघर्ष से तंग किया जा रहा है। प्रवक्ता ने धर्म, जाति और अन्य पहचानों से हटकर समानता, सभी को सुरक्षा के उद्देश्य से LGP के आंदोलन में शामिल होने के लिए सांप्रदायिक तीक्ष्णता को छोड़ने का आह्वान कियाA प्रवक्ता ने कहा कि बड़े पैमाने पर भ्रष्टाचार, कुशासन तथा शासन में पारदर्शिता की कमी जैसे मुख्य मुद्दे देश को सता रहे हैं लेकिन कोई भी राजनीतिक दल उन पर चर्चा करने के लिए तैयार नहीं है।