सूरत- कोचिंग सेंटर अग्निकांड में मरने वालों की संख्या हुए 21, दो गिरफ्तार


सूरत। गुजरात के सूरत शहर में एक भीषण अग्निकांड हादसे में एक व्यवसायिक परिसर में 21 लोगों की मौत हो गई। घटना शुक्रवार की है। मरने वालों में 15 लड़कियां और 3 लड़के शामिल हैं। सभी की उम्र 15 से 22 साल के बीच थी। घटना के समय आर्ट्स कोचिंग में 60 बच्चे थे। 13 बच्चों ने दूसरी और तीसरी मंजिल से छलांग लगाई। इनमें से तीन की कूदने से मौत हुई। कोचिंग के संचालक को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है।



हादसे के बाद से पूरे सूरत में मातम नजर आ रहा है वहीं मामले की जांच जारी है। घटना के बाद खबर है कि पुलिस ने अब तक दो लोगों को गिरफ्तार किया है वहीं तीन लोगों के खिलाफ गैर इरादतन हत्या का केस दर्ज किया गया है। जिन लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया गया है उनमें बिल्डर, हर्षल वकारिया और जिग्नेश के अलावा कोचिंग सेंटर के मालिक भार्गव भुटानी शामिल हैं। घटना के बाद एहतियात के तौर पर शहर के सभी कोचिंग सेंटर्स के संचालन पर रोक लगा दी गई है।


प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार आग लगने के काफी देर बाद तक फायर ब्रिगेड वहां नहीं पहुंची थी जिसके कारण हादसा बड़ा हो गया। सरकार ने शहरी विकास विभाग के सचिव को घटना की जांच करने और तीन दिन में रिपोर्ट देने को कहा है। इस बात की भी जांच की जाएगी कि इमारत में अवैध निर्माण तो नहीं हुआ था। उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल और शिक्षा मंत्री भूपेंद्र सिंह चूडास्मा ने कहा कि घटना के दोषियों पर सख्त कार्रवाई की जाएगी।



चार मंजिला कॉम्प्लेक्स में शॉर्ट सर्किट से दोपहर बाद साढ़े तीन बजे आग लगी। कॉम्प्लेक्स में दूसरी और तीसरी मंजिल पर आर्ट क्लासेस चलती हैं। आग ग्राउंड फ्लोर से शुरू हुई। आग देखकर आर्ट क्लास के बच्चे ऊपर की ओर भागे और वहीं फंस गए। फायर ब्रिगेड के आने तक आग बेकाबू हो गई। इसलिए बच्चों ने जान बचाने के लिए चौथी मंजिल से कूदना शुरू कर दिया। नीचे जमा स्थानीय लोगों ने कूद रहे बच्चों को कैच करना शुरू किया, ताकि बच्चों के सिर पर सीधी चोट न आए। इस तरह लोगों ने 10 बच्चों को बचा लिया। जबकि, एक बच्चे को नहीं बचाया जा सका।



स्थानीय लोगों का आरोप है कि दमकल की गाड़ियां आग लगने के आधे घंटे बाद मौके पर पहुंचीं। लेकिन, उस वक्त उनके पास जरूरी उपकरण नहीं थे, जिनके जरिए आग में फंसे बच्चों को बाहर निकाला जा सके। वीडियो में दिखाई दे रहा है कि जिस वक्त बच्चे इमारत से छलांग लगा रहे थे, उस वक्त दमकल सामने खड़ी थीं। लेकिन, उनकी सीढ़ियां ऊपरी मंजिल तक नहीं पहुंच पाईं।



गुजरात के सीएम मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने हादसे पर दुख जाहिर किया। उन्होंने बच्चों के परिवारों के लिए मुआवजे का ऐलान किया और कहा कि एक दिन के भीतर हादसे की जांच रिपोर्ट पेश की जाए। रुपाणी ने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा से बात की है। नड्डा ने एम्स ट्रामा सेंटर के निदेश को हर मदद के लिए तैयार रहने के निर्देश दिए हैं। दिल्ली एम्स में भी डॉक्टरों की एक टीम को अलर्ट रखा गया है।