दिल्ली की यमुना उफान पर, 23 हजार लोगों को कराया शिफ्ट  (21आरएस30ओआई)

नई दिल्ली। दिल्ली में यमुना खतरे के निशान से ऊपर बह रही है।


मंगलवार को दिनभर जलस्तर बढ़ने के बाद बुधवार को भी लगातार नदी का जलस्तर बढ़ रहा है। जहां मंगलवार रात 9 बजे तक यह लाल निशान पार कर 206.40 मीटर तक पहुंच गया था। वहीं बुधवार को यह 206.60 मीटर पहुंच गया है। अनुमान है कि बुधवार दोपहर 1 से लेकर शाम पांच बजे के बीच में यह 207.08 मीटर तक पहुंच सकता है। खतरे का निशान 205.33 मीटर है। अगले 24 घंटे तक यमुना उफान पर रहेगी। यमुना खादर से अब तक 23 हजार लोगों को निकालकर अस्थायी टेंट में भेजा गया है। 



दिल्ली सरकार के राहत व बचाव दल स्थिति पर नजर रखे हुए हैं। मंगलवार दोपहर तक यमुना बाजार और मजनूं का टीला तक पानी पहुंच गया था। आईएसबीटी कश्मीरी गेट के पास के तिब्बती मार्केट को एहतियातन बंद करा दिया गया। रिंग रोड तक पानी पहुंचने से रोकने के लिए मिट्टी भरे कट्टे लगाए गए हैं।


वहीं, पूर्वी दिल्ली में यमुना का पानी अभी बस्तियों तक नहीं पहुंचा है, लेकिन जलस्तर बढ़ने पर कॉलोनियों में पानी घुसना तय माना जा रहा है। दिल्ली सरकार के राजस्व मंत्री कैलाश गहलोत ने बताया कि अभी हालात नियंत्रण में हैं। दिल्ली में किसी तरह का जान-माल का नुकसान नहीं हुआ है।


यमुना में उफान को देखते हुए रेलवे ने लोहे के पुराने पुल पर मंगलवार को ट्रेनों की आवाजाही को बंद कर दिया। अब इस रूट से चलने वाली ट्रेनें नई दिल्ली स्टेशन से चलेंगी। बुधवार को इसका ज्यादा असर देखने को मिलेगा। ज्यादातर ट्रेन सुबह पुरानी दिल्ली स्टेशन पहुंचती हैं और इसी स्टेशन से अन्य रूट पर जाती हैं।


- यमुना का सबसे ज्यादा जलस्तर
वर्ष जलस्तर (मीटर में)
1978 297.48
2010 207.11
2013 207.32


 


Popular posts from this blog

डोनाल्ड ट्रम्प की यात्रा के दौरान ताज महल को एक दिन के लिए जनता के लिए बंद कर दिया गया

चाईना पर सर्जिकल स्ट्राईक कब ... डा. शेख

सेक्टर के लिए सरकार की 4,558 करोड़ की योजना पर डेयरी फर्मों की रैली