केजरीवाल की ऑड-ईवन योजना पर केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने जताई असहमति

नई दिल्ली। दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने यहां ऑड-ईवन योजना को लागू किए जाने के फैसले पर केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने असहमति जताई है।


सीएम अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली की सड़कों पर निजी वाहनों के चलने को लेकर 4 से 15 नवंबर तक ऑड-ईवन पॉलिसी लागू करने का ऐलान किया है। इस पर असहमति जताते हुए केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने कहा, 'मैं नहीं मानता कि इसकी जरूरत थी। हमने जो रिंग रोड बनाया है,


उससे शहर के प्रदूषण में बड़ी कमी आई है। अगले 2 सालों में हमारी स्कीमों से दिल्ली प्रदूषण से मुक्त हो जाएगी।' मालूं हो कि केंद्र सरकार ने हरियाणा और राजस्थान से उत्तराखंड एवं उत्तर प्रदेश जैसे राज्यों को आने-जाने वाले वाहनों को दिल्ली से परे रखने के लिए ईस्टर्न और वेस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेसवे का निर्माण किया है। केंद्रीय परिवहन मंत्री ने प्रदूषण कम करने के लिए ऑड-ईवन लागू करने पर इसी निर्माण कार्य का हवाला देते हुए कहा कि इसकी जरूरत नहीं है। इससे ऐसे वाहन दिल्ली नहीं आते, जिन्हें अब तक दूसरे राज्यों के सफर के लिए दिल्ली होकर जाना पड़ता था।



दिल्ली भाजपा के अध्यक्ष और नॉर्थ-ईस्ट दिल्ली से सांसद मनोज तिवारी ने आप सरकार पर निशाना साधा है। सीएम अरविंद केजरीवाल के ऐलान के बाद उन्होंने कहा कि दिल्ली में जब प्रदूषण कम हो रहा है तो ऑड-ईवन लागू करने की क्या जरूरत है। यह एक बेहद सख्त कदम है, जिसे सिर्फ इमर्जेंसी में लगाना चाहिए। उन्होंने कहा, 'केजरीवाल को लोगों को परेशान करने में मजा आता है।


इस समय ऑड-ईवन लागू करने की घोषणा करना केवल एक चुनावी स्टंट है। पेरिफेरल रोड बनाने के लिए जो 486 करोड़ रुपये दिल्ली सरकार को देने थे, वो तो दिए नहीं और प्रदूषण कम हुआ तो उसका श्रेय लेने आ गए।' दिल्ली भाजपा अध्यक्ष ने सवाल किया, 'जो इलेक्ट्रिक बसें आनी थीं, वो कहां हैं।


इन्होंने (सीएम केजरीवाल) साढ़े चार साल तो कुछ किया नहीं, अब चुनाव आ रहे हैं, तो स्टंटबाजी कर रहे हैं। एक तरफ विज्ञापन देकर कह रहे हैं कि प्रदूषण कम हो रहा है, दूसरी तरफ ऑड ईवन लागू करने की बात कह रहे हैं।' 


Popular posts from this blog

डोनाल्ड ट्रम्प की यात्रा के दौरान ताज महल को एक दिन के लिए जनता के लिए बंद कर दिया गया

चाईना पर सर्जिकल स्ट्राईक कब ... डा. शेख

सेक्टर के लिए सरकार की 4,558 करोड़ की योजना पर डेयरी फर्मों की रैली